Tuesday, May 21, 2024
Latest:
ऊधम सिंह नगर

मानकों की धज्जियां उड़ा रहे निजी स्कूल गोल्डन ड्रीम पब्लिक स्कूल प्रबंधन के खिलाफ अभिभावकों ने उठाई आवाज मानकों के विपरीत चल रहे विद्यालयों के खिलाफ की जायेगी कार्यवाही। जिला शिक्षा अधिकारी

सौरभ गंगवार

रूद्रपुर। शिक्षा विभाग की उदासीनता के चलते शहर में कई निजी स्कूल मानकों की खुलेआम अनदेखी कर रहे हैं। इन स्कूलों में नियम कानूनों को ताक पर रखकर अभिभावकों का आर्थिक शोषण किया जा रहा है। कई स्कूल तो गली मोहल्लों में चल रहे हैं जहां पर छात्र-छात्राओं उचित शैक्षणिक माहौल न मिलने से शिक्षा व्यवस्था खस्ताहाल है।

शहर और आस पास के इलाकों में पिछले कुछ समय से निजी स्कूलों की बाढ़ आ गयी है। कई स्कूल मानकों की खुलेआम अनदेखी कर रहे हैं। इन शिक्षण संस्थानों में बच्चे मोटी फीस देकर शिक्षा ग्रहण करते हैं। लेकिन ये स्कूल मान्यता के मानदंडों पर खरे नहीं उतरते यही नहीं छात्र-छात्राओं से मोटी फीस उगाही करने वाले इन स्कूलों में सुविधाओं का हमेशा टोटा बना रहता है। जिससे छात्र-छात्राओं को अच्छी शिक्षा नहीं मिल पा रही है। यही नहीं शिक्षा के साथ-साथ छात्र-छात्राओं के लिए खेल आदि की कोई सुविधा नहीं है।

यहां तक कि इन निजी स्कूल परिसरों में पर्याप्त खेल मैदान तक नहीं हैं। जिससे स्कूलों में अध्ययनरत छात्र- छात्राओं को शिक्षा के साथ-साथ अन्य गतिविधियों में शामिल होने का मौका नहीं मिलता है। जिससे छात्र-छात्राएं अपने अंदर छिपी प्रतिभा का सही इस्तेमाल कर सकें समय-समय पर समाजसेवियों और अभिभावकों द्वारा निजी स्कूल संचालकों से स्कूलों में बच्चों के बैठने पढ़ने के कक्षा कक्ष, फर्नीचर, दक्ष अध्यापक, विद्यालय के सुरक्षा मापदण्ड, विद्यालय परिसर खेल-कूद मैदान आदि बिन्दुओं पर सुधार की मांग उठाते रहे हैं। लेकिन अभिभावकों की मांगों को नजरअंदाज किया जाता है।

नारायण कालोनी स्थित गोल्डन ड्रीम पब्लिक स्कूल में भी मानकों की अनदेखी की जा रही है। इस विद्यालय में पढ़ने वाले बच्चों के अभिभावकों का आरोप है कि विद्यालय प्रबंधन डेªस और अन्य शिक्षण सामग्री एक ही प्रतिष्ठान से लेने के लिए दबाव बना रहा है। साथ ही फीस के लिए भी अनावश्यक दबाव बनाया जाता है। विद्यालय में खेलकूद के लिए पर्याप्त स्थान नहीं है, अयोग्य शिक्षक हैं। कमरे हवादार नहीं है और शौचालय की हालत भी खस्ता है। विद्यालय की जो बिल्डिंग बनी हुई है वह मानकों के अनुरूप नहीं है। स्कूल की बिल्डिंग या तो सी आकार में या फिर एल के आकार में होनी चाहिए लेकिन गोल्डन ड्रीम स्कूल की बिल्डिंग इन मानकों को पूरा नहीं करती।

अभिभावकों की शिकायतों के सम्बंध में जब विद्यालय प्रबंधक महेन्द्र पाल मौर्य से जानकारी ली गयी तो उनका कहना था कि ऐसी कोई शिकायत उनके संज्ञान में नहीं है।

वहीं ऐसी शिकायतों के सम्बंध में जब जिला शिक्षा अधिकारी डी.एस. राजपूत से जानकारी ली गयी तो उन्होंने कहा कि मानकों के विपरीत चल रहे विद्यालयों के खिलाफ कार्यवाही की जायेगी।।

error: Content is protected !!
Call Now Button