Tuesday, May 21, 2024
Latest:
ऊधम सिंह नगर

कायदे कानून ताक पर,जहां चाहो काट लो कालोनी भू माफियाओं की प्रवृत्ति पर नहीं लग रहा अंकुश

सौरभ गंगवार

रुद्रपुर। कायदे कानून को ताक पर रखकर शहर के इर्द गिर्द अवैध कालोनियां विकसित हो रही हैं, न तो नक्शा पास कराया जा रहा है, न ही बुनियादी सुविधाएं मुहैया कराई जा रही हैं, शहर के आस पास हर उस जगह यह अवैध कालोनियां बस रही हैं, जहां भविष्य में जमीन की कीमतें बढ़ सकती हैं। नोटिस जारी करने के अलावा प्रशासन ने भी अब तक इनके खिलाफ कोई ठोस कदम नहीं उठाए हैं।कालोनी विकसित करना कोई गैर कानूनी कार्य नहीं है। मगर इसके सरकारी प्रावधान हैं। जिन्हें पूरा करने के बाद ही कालोनी विकसित की जा सकती है। शहर में जिस तेजी से कालोनियां बन रही हैं, उनमें कायदे कानून का रत्ती भर भी पालन नहीं किया जा रहा इससे जुड़े कारोबारियों का मुख्य मकसद लोगों को जमीन का सब्जबाग दिखाकर मोटा मुनाफा कमाना बन गया है।

शहर का शायद ही कोई कोना अछूता होगा जहां खेतों में कालोनी के नाम पर प्लाटिंग न हो रही हो एक अदद संस्था का नाम रखकर धड़ल्ले से प्लाट काटे जा रहे हैं। प्लाट खरीदने वालों को संस्था के नाम की रसीद पकड़ा दी जाती है। इस काम में कोलोनाइजर लाखों के बारे न्यारे कर रहे हैं। एक मकान की आस लगाए बैठे भोले भाले लोग इनके सब्जबाग में फंसते हैं। इस बात की कोई गारंटी नहीं होती कि कालोनी का विकास कब होगा रही बात प्रशासन की तो अभी तक किसी भी कोलोनाइजर के खिलाफ कोई कड़ी कार्रवाई नहीं की गई है। इससे हर रोज कमोवेश नए-नए लोग भी इस मुनाफे के धंधे में कूद रहे हैं। बगैर कोई प्लान स्वीकृत कराए प्लाटिंग करने से सरकारी राजस्व को क्षति होने के साथ साथ प्लाट खरीदने वालों को बुनियादी सुविधाओं से वंचित होना पड़ रहा है।

किच्छा,इंदरपुर,दिनेशपुर रोड,छतरपुर,भूरारानी,प्रीत विहार पर टिकी निगाहें।

कालोनियों का विस्तार शहर में चारों दिशाओं में हो रहा है। खासकर उस जमीन पर कोलोनाइजर्स की नजर ज्यादा रहती है, जहां व्यवसायिक लाभ मिलने की उम्मीद अधिक होती है। सिडकुल रोड के आसपास का एरिया ऐसे स्थल में आ रहा है। कोलोनाइजर्स की नजर में आने वाले समय में सिडकुल के चलते वहा की आवाजाही बढ़ेगी लिहाजा आसपास के क्षेत्र में अंधाधुंध प्लाटिंग की जा रही है। इसी तरह हाइवे किनारे मौजूद खेत भी तेजी से समाप्त होते जा रहे हैं। एडीएम के अधीन विनियमित क्षेत्र विभाग की मानें तो जय नगर के पास,किच्छा, इंद्रपुर,लालपुर के पास काशीपुर रोड के पास जनपद रोड प्रीत विहार,जय नगर,काली नगर व उसके आसपास अवैध रूप से कालोनियां बस रही हैं। प्रशासन को इस बात की जानकारी है कि अवैध प्लाटिंग हो रही है, किंतु सालों से जारी इस गोरखधंधे को नोटिस जारी करने के अलावा कोई ठोस कार्रवाई नहीं की गई।

नक्शा पास न कराने के कई कारण

रुद्रपुर। कोलोनाइजर्स बगैर नक्शा पास कराए कालोनी में प्लाटिंग कार्य शुरू करा देते हैं। इसके पीछे भी कई कारण हैं। नियम के मुताबिक ले आउट बनाकर प्लाटिंग कराने से उसके लिए बंदिशें बढ़ जाती हैं। नक्शा पास कराने पर पार्क के लिए जगह छोड़ना अनिवार्य हो जाता है। सड़कों की चैड़ाई भी प्रावधान के अनुसार रखनी पड़ती है। नाली,बिजली और पानी की व्यवस्था करके देनी होती है। यही नहीं सरकार को डेवलपमेंट चार्ज भी देना पड़ता है। इतना सब करने से प्लाटिंग कॉस्ट बढ़ जाती है। जिससे मुनाफे पर असर पड़ता है। इसी वजह से बगैर ले आउट दाखिल किए सारे कार्य किए जा रहे हैं। इन अवैध कालोनीयो की जांच की जाये तो चैंकाने वाले खुलासे हो सकते हैं। इन कालोनीयो में प्राधिकरण के नियमों की खुलेाआम धज्जियां उड़ाई जा रही है। नियमानुसार नई कालोनी को रेरा से अप्रूव्ड होना चाहिए लेकिन फिलहाल ऐसा नहीं है। लोगों को सब्जबाग दिखाकर इन कालोनीयो में पूर्व की तरह लोगों को प्लाट बेचे जा रहे हैं। इससे न सिर्फ लोगों को धोखे में रखा जा रहा है बल्कि सरकार को भी करोड़ों के राजस्व का चूना लगाया जा रहा है।।

error: Content is protected !!
Call Now Button