Tuesday, May 21, 2024
Latest:
उत्तराखंडऊधम सिंह नगर

सिडकुल में अवैध वसूली का मामला गरमाया दोनों पक्षों ने दी रंगदारी की तहरीर

सौरभ गंगवार 

रूद्रपुर। सिडकुल में अवैध वसूली के मामला गरमा गया है। मामले में दोनों पक्षों ने पुलिस को तहरीर सौंपकर गंभीर आरोप लगाये हैं। पुलिस मामले की जांच कर रही है। दोनों पक्षों की तहरीर के आधार पर पुलिस जल्द ही मामले में क्रास केस दर्ज कर सकती है। बता दें बीते दिनों एक ऑडियो वायरल हुआ था जिसमें विधायक का करीबी किरन विर्क सिडकुल के ठेकेदार राजेश सिह से 33 प्रतिशत हिस्सेदारी की मांग कर रहा है। इस मामले में ठेकेदार राजेश सिंह ने डाक से पंतनगर थाने में तहरीर दी है जिसमें उन्होंने कहा है कि उसने औद्यौगिक इकाई, मै० इण्डिया फोर्ज प्राइवेट लिमिटेड, स्थित सेक्टर 11 सिडकुल, पंतनगर, के स्क्रैप ठेकेदार पवन शर्मा से स्क्रैप का तौल के हिसाब से क्रय विक्रय करने का सौदा तय किया, जिसका भुगतान भी तौल के हिसाब से होना था। 10 अप्रैल 2024 को प्रातः लगभग 11 बजे उसने स्क्रैप उठाने के लिए अपने सहयोगी मनीष यादव पुत्र वीरम सिंह यादव निवासी भदईपुरा रूद्रपुर को श्रमिकों सहित ट्रक पंजीयन संख्या यूके 06-सीबी -9141 सहित उक्त कम्पनी- मै0 इण्डिया फोर्ज प्राइवेट लिमिटेड में भेजा, लेकिन मनीष यादव के कम्पनी में पहुँचने के कुछ समय पश्चात ही वहाँ पर एक स्कॉपियो, और दिनेश सैनी की वरना कार एवं एक अस्थाई पंजीयन संख्या की स्विफ्ट कार में मोहन कबाडी स्वामी नानक ट्रेडर्स, आकाश यादव, आशीष यादव पुत्रगण अनिल यादव, अभिषेक यादव पुत्र दान बहादुर यादव, संजय दास उर्फ विशाल पुत्र निवासीगण भदईपुरा, रूद्रपुर, दिनेश सैनी पुत्र व 5 अन्य व्यक्ति आ धमके तथा आते ही सभी लोगों ने मनीष यादव व उसके श्रमिकों को अभद्र गालियाँ देते हुए धमकी दी। कहा कि इस कम्पनी से जो भी स्क्रैप उठाता है वह स्क्रैप उठाने से पहले रूद्रपुर विधायक शिव अरोरा को उनका 33 प्रतिशत हिस्सा देता है, तभी वह इस कम्पनी से माल उठा सकता है। उक्त लोगों ने मनीष यादव से विधायक शिव अरोरा या उनके साथी किरन विर्क से बात करने के लिए कहा और यह भी कहा कि उन्हें विधायक जी ने ही यहाँ पर भेजा है। राजेश के मुताबिक इस समस्त प्रकरण से मनीष यादव ने उसे फोन पर जानकारी दी। जिस पर उन्होंने किरन विर्क निवासी बिगवाडा से मोबाइल पर बात कर उक्त हिस्सेदारी की जानकारी चाही तो किरन विर्क ने फोन पर बताया कि मै० इण्डिया फोर्ज प्राइवेट लिमिटेड से रूद्रपुर विधायक का 33 प्रतिशत का हिस्सा पूर्व से जाता है और आगे जो भी काम करेगा वह भी 33 प्रतिशत का हिस्सा विधायक जी को देगा। राजेश ने तहरीर में आगे बताया है कि जब वह साथी मनीष गंगवार व नन्द किशोर, उक्त मै० इण्डिया फोर्ज प्राइवेट लिमिटेड, सिडकुल पंतनगर पहुँचे तो वहाँ पर किरन विर्क व मोहन कबाडी आदि मौजूद थे और किरन विर्क ने कहा कि हम विधायक जी के काम देखते है। हमें पूर्व की भाँति ही तुमसे भी बचत का 33 प्रतिशत का हिस्सा चाहिए। बिना हिस्सा दिये तुम यहाँ काम नहीं कर सकते हो। हमारी बिना हिस्सेदारी के स्क्रैपउठाने की कोशिश की तो विधायक जी तुम लोगों को किसी भी फर्जी मामले में जेल भिजवा देंगे या आयकर विभाग से तुम्हारा माल पकडवा कर काम बन्द करा देंगे। काम करना है तो पहले विधायक जी का हिस्सा पहुँचा दो।

वहीं दूसरे पक्ष ने भी रविवार को इस मामले में पंतनगर थाने में तहरीर सौंपी है। ओमेक्स कालोनी निवासी मोहन स्वरूप पुत्र मेवाराम की ओर से सौंपी गयी तहरीर में कहा गया है कि वह सिडकुल में पिछले 16 वर्षों से व्यापार कर रहा है, तथा सन् 2011 से इण्डिया फोर्ज नामक कम्पनी के साथ स्क्रेप का व्यापार कर रहा है। 2020 मे उसके साथ क्षीतिज सेतिया भी पार्टनर के रूप में कार्य करने लगा। अगस्त 2023 मे पवन शर्मा भी हिस्सेदार बन गये इस प्रकार दोनों के बीच में 50-50 प्रतिशत की थी वह पवन शर्मा के आने के बाद तीनो में 33-33 प्रतिशत तय हो गयी। तहरीर में कहा गया है कि राजेश सिंह पुत्र गेंदन लाल जोकि एक कुख्यात बदमाश व हिस्ट्रीशिटर है के द्वारा मोबाईल से उसके फोन पर 09 अप्रैल 2024 की शाम फोन किया गया धमकाते हुए कहने लगा कि आज से इण्डिया फोर्ज में स्क्रेप का काम तुम नहीं करोगे और मैं करूंगा और पवन भी मेरे साथ है। इतना कहते ही उसने अपना फोन काट दिया। यह कि 09 अप्रैल 2024 को ही राजेश सिंह द्वारा उसके पार्टनर क्षीतिज सेतिया को भी फोन कर धमकाया गया। मोहन स्वरूप के मुताबिक 10 अप्रैल 2024 को दोपहर करीब 12 बजे जब अपनी गाड़ी से जा रहा था, कि अचानक एक स्विफ्ट कार उसकी गाडी के आगे आकर रुकती है, और उस गाड़ी से राजेश सिंह उतरता है और उसकी गाड़ी में आकर बैठ जाता है, राजेश सिंह ने अपने जेब से एक तंमचा निकालते हुए धमकाया कि तुम बहुत मोटा व्यापार सिडकुल में कर रहे हो और मैं तुम्हे व्यापार नहीं करने दूगां और यदि तुम्हे शान्तिपूर्वक व्यापार करना है तो पांच लाख रूपये हर महीने फिरोती के रूप में देने होगें आरोप है कि राजेश सिंह गाडी के डेस बोर्ड से एक लाख रूपये जबरन उठा ले गया और बाकी 4 लाख रूपये इस महीने के अंत तक नहीं देने पर जान से मारने की धमकी दी। फिलहाल दोनों ही तहरीरों पर पुलिस ने अभी मुकदमा दर्ज नहीं किया है। बताया जा रहा है कि जल्द ही पुलिस दोनों तहरीरों के आधार पर क्रास केस दर्ज कर सकती है।

बचाव के लिए लिया था विधायक का नामः विर्क

सिडकुल में अवैध वसूली का ऑडियो वायरल होने के मामले मे ंभाजपा नेता किरन विर्क का बयान भी सामने आया है। किरन विर्क का कहना है कि 9 अप्रैल की रात को उसके परिवारिक सदस्य क्षितिज सेतिया के पास हिस्ट्री शीटर राजेश गंगवार का फोन आया और उसने धमकी भरे लहजे मे बात करते हुए कहा कि एक कम्पनी मे कार्य जो वह कर रहा है उसको करना छोड़ दे और अब वहां कार्य हम करेंगे वरना उनके लिए सही नही होगा और इसी प्रकार का फोन क्षितिज सेतिया के उस कम्पनी मे पार्टनर मोहन स्वरूप को भी राजेश गंगवार ने फोन करते हुए धमकी भरे अंदाज़ में कहा कि उस कम्पनी में कार्य करना छोड़ दे वरना परिणाम अच्छे नही होंगे। किरन विर्क ने बताया कि हिस्ट्रीशीटर द्वारा दी गयी धमकी से दोनों घबरा गये और उन्होंने मुझे जानकारी देकर कोई समाधान निकालने का अनुरोध किया। किरण विर्क ने बताया कि अगले ही दिन 10 अप्रैल को उनके पास हिस्ट्री शीटर राजेश गंगवार का फोन आया बोलता है कि उस कम्पनी अब हम कार्य करेंगे। किरन विर्क ने कहा कि हिस्ट्री शीटर गंगवार के पुराने आपराधिक रिकॉड को देखते हुए वह खुद भी घबरा गये और उन्होंने बात करने के दौरान अपने व उन दोनों व्यापारी जो पिछले लम्बे समय से उस कम्पनी मे साझेदार के रूप मे सयुक्त कार्य कर रहे हैं उनके बचाव को देखते हुए राजनैतिक व्यक्ति के नाम का सहारा लिया। विर्क ने कहा ऐसे व्यक्ति जिसकी नजर मे व्यक्ति की जान की कोई क़ीमत नही है, ऐसे मे उससे बचाव के लिए फोन पर वार्ता के दौरान जोकि फोन काल उसके द्वारा की गयी थी ऐसे मे अपने बचाव के लिए उन्होंने राजनैतिक नाम का सहारा लिया था।

error: Content is protected !!
Call Now Button